Monthly Archives: June 2008

सपनों के रहस्य-लोक की परतें

अपने एक मित्र से मिलने गया था। उनके कार्यालय की दीवार पर टँगे एक वाक्य पर नज़र गई। लिखा था: सपने वे नहीं होते जो हम सोते समय देखते हैं, सपने वे होते हैं जो हमें सोने नहीं देते। उस … Continue reading

Posted in दर्शन, निजी डायरी | 15 Comments