Monthly Archives: April 2007

सर्वेक्षण: भारत का अगला राष्ट्रपति कौन?

भारत के अगले राष्ट्रपति के निर्वाचन के लिए संभावित प्रत्याशियों के नाम पर चर्चा जोर-शोर से शुरु हो गई है। अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि वर्तमान राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम को किसी बड़े राजनीतिक दल का … Continue reading

Posted in समसामयिक, सर्वेक्षण | 19 Comments

इंटरनेट, ज़ुर्म, क़ानून और कारिंदे

इस लेख-श्रृंखला के पिछले लेख में हम चर्चा कर रहे थे कि रफ़्तार के मामले में क़ानून हमेशा टेक्नोलॉजी से पीछे रहता है। लेकिन ज़ुर्म करने वाले क़ानून की कछुआ चाल में यक़ीन नहीं करते। वे टेक्नोलॉजी के मामले में … Continue reading

Posted in संविधान और विधि, विश्लेषण | 8 Comments

तो अब ये निकले हैं हिन्दू धर्म को बचाने!

स्टार न्यूज़ के मुम्बई कार्यालय पर आज अपराह्न लगभग चार बजे एक नवोदित अतिवादी संगठन हिन्दू राष्ट्र सेना के पचास से अधिक कार्यकर्ताओं द्वारा भारी तोड़-फोड़ की गई। स्टार न्यूज के पत्रकारों एवं कर्मचारियों की कारों के शीशे हथौड़े से तोड़ डाले गए। … Continue reading

Posted in पत्रकारिता, समसामयिक, जन सरोकार, कविता | 19 Comments

इंटरनेट, चिट्ठाकारी, पत्रकारिता और क़ानून

पिछले दिनों पत्रकारिता बनाम चिट्ठाकारिता पर अच्छी बहस हुई। यहां तक कि देबाशीष जी द्वारा चिट्ठा चर्चा पर इस बहस के पटाक्षेप की घोषणा कर दिए जाने के बाद भी वह जारी रही। डॉ. बेजी ने इस बहस को लेकर कुछ ऐसा राग छेड़ा कि … Continue reading

Posted in चिट्ठाकारिता, संविधान और विधि, विश्लेषण | 20 Comments

“नेताजी से जुड़े दस्तावेज सार्वजनिक करे सरकार”

सूचना के अधिकार के तहत नेताजी से संबंधित दस्तावेजों को सार्वजनिक किए जाने के मामले में केन्द्रीय सूचना आयोग ने पिछले एक सप्ताह में भारत सरकार को दूसरा बड़ा झटका दिया है। पिछले सप्ताह 26 मार्च, 2007 को इस मामले … Continue reading

Posted in नेताजी का रहस्य, समसामयिक, सूचना का अधिकार, जन सरोकार | 37 Comments