Monthly Archives: February 2007

श्री अरविन्द के विचार: प्रत्यक्ष अनुभूति से प्रेरित दर्शन

सत्य की प्रत्यक्ष और गहन अनुभूति से उत्पन्न होने के कारण श्री अरविन्द के विचार पाठकों को सतही बौद्धिकता से परे चेतना के दिव्य आध्यात्मिक लोक में ले जाते हैं। उनके विचार उपनिषद के सूत्रों की तरह सघन अर्थों से गुम्फित होते हैं। पिछले … Continue reading

Posted in दर्शन, प्रेरक विचार, अनुवाद | 5 Comments

चुनाव कीजिए सर्वश्रेष्ठ हिन्दी चिट्ठे का

मेरे लिए यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि इंडीब्लॉगीज, 2006 की जूरी ने बेस्ट इंडिक ब्लॉग (हिन्दी) की श्रेणी में जिन आठ चिट्ठों का चयन किया है, उनमें रवि रतलामी जी, अनूप शुक्ला जी, सुनील दीपक जी और जीतेन्द्र चौधरी जैसे दिग्गज एवं अनुभवी चिट्ठाकारों … Continue reading

Posted in चिट्ठाकारिता, निजी डायरी | 13 Comments