Monthly Archives: July 2006

अव्यक्त ब्रह्म

प्रत्येक जीव अव्यक्त ब्रह्म है। बाह्य एवं अंत:प्रकृति को वशीभूत करके अपने इस ब्रह्मभाव को व्यक्त करना ही जीवन का चरम लक्ष्य है। कर्म, उपासना, मन:संयम अथवा ज्ञान- इनमें से एक, एक से अधिक या सभी उपायों का सहारा लेकर … Continue reading

Posted in दर्शन | 1 Comment

मौन: सत्य का द्वार

परमात्मा हमेशा मौन है। यह उसका सहज स्वभाव है। उसने कभी अपना नाम नहीं बताया। उसने कभी यह तक नहीं कहा कि उसका कोई नाम नहीं है। उसके सारे नाम ज्ञानियों और भक्तों द्वारा दिए गए नाम हैं। उसने कभी … Continue reading

Posted in दर्शन | 5 Comments