Monthly Archives: March 2006

इंतजार

कब से इंतजार कर रहा हूँ मैं कि तुम उतरो मेरे आँगन में और मेरे हाथों में हाथ डालकर मेरे साथ नाचो, गाओ, झूमो देखो, मैं कितना खुश हूँ पर खुशी को अकेले तो भोगा नहीं जा सकता तुम भी … Continue reading

Posted in साहित्य, कविता | 4 Comments

बढ़ जाओ आगे तुम

बढ़ जाओ आगे तुम मैंने राह छोड़ दी है तुम्हारे लिए नहीं, हारा नहीं हूँ मैं पर मैं तुमसे लड़ा ही कब था मैंने लड़ना-भिड़ना छोड़ दिया है तुम इसे कायरता या पलायन मानते हो तो मानते रहो पर यह … Continue reading

Posted in कविता | 2 Comments

चिर-प्रतीक्षित

कब से सुन रहा हूँ सुदूर से आती हुई तुम्हारे पदचापों की मधुर ध्वनि आ रहे हो तुम धीरे-धीरे हमारे बीच तुम्हारे आने की ख़बर हमें सदियों से है हम हर घड़ी तुम्हारे ही इंतजार में रहे हैं। पहुँच चुके … Continue reading

Posted in साहित्य, कविता | Leave a comment

उपन्यास समीक्षा:शब्दभंग

व्यवस्था में व्याप्त भ्रष्टाचार से लड़ने की आदर्शवादी चाह और साथ ही व्यक्तिगत जीवन में उन्नति के सोपान चढ़ने व अपने प्रियजनों के लिए सुख-सुविधा हासिल करने की महत्वाकांक्षा के द्वंद्व के कारण जिंदगी किस तरह बीहड़ और खतरनाक परिस्थितियों … Continue reading

Posted in समीक्षा, साहित्य | 2 Comments

क्या है लाभ के पद की परिभाषा ?

निर्वाचन आयोग ने समाजवादी पार्टी के महासचिव अमर सिंह को उत्तर प्रदेश विकास परिषद के अध्यक्ष के रूप में लाभ का पद धारण करने के कारण राज्य सभा की सदस्यता से अयोग्य घोषित किए जाने के मामले में जारी नोटिस … Continue reading

Posted in समसामयिक | 3 Comments