Category Archives: श्रद्धांजलि

जब बुद्ध ढाई हजार साल बाद फिर लौटे

आप सभी को बुद्ध पूर्णिमा के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएँ! अमेरिकी सरकार की कैद के दौरान दिए गए धीमे जहर के घातक असर के कारण दिसम्बर, 1988 में ओशो कुछ सप्ताह तक गंभीर रूप से बीमार रहे और मरणासन्न हो चले थे। स्वस्थ होने पर उन्होंने बताया … Continue reading

Posted in पर्व-उत्सव, प्रेरक विचार, श्रद्धांजलि | 24 Comments

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के कर्ण

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के बारे में जब भी मैं सोचता हूँ, मुझे महाभारत के महारथी कर्ण का स्मरण हो आता है। यदि महाभारत के कुछ अन्य महारथियों के रूपक का भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महानायकों के संदर्भ में प्रयोग … Continue reading

Posted in नेताजी का रहस्य, श्रद्धांजलि, समसामयिक | 49 Comments

विवेकानन्द वाणी

विवेकानन्द के विचारों का संगीत शास्त्र, गुरु और मातृभूमि– इन तीन स्वर लहरियों से निर्मित हुआ है। इन्हीं से उनको वे उपकरण मिले, जिनसे विश्व-विकार को दूर करने वाले आध्यात्मिक वरदान की विशल्यकरणी उन्होंने प्रस्तुत की। हम उनके इन्हीं प्रखर विचारों के … Continue reading

Posted in दर्शन, प्रेरक विचार, श्रद्धांजलि | 11 Comments

एक थी फूलन

नियति जिंदगी में कैसे-कैसे रंग बिखर सकती है, इसे कोई नहीं जानता। फूलन भी नहीं जानती थी। पर नियति ने फूलन की जिंदगी के लिए बहुत से बहुत से रंग सजाए थे। जन्म से लेकर मरण तक फूलन का पूरा … Continue reading

Posted in श्रद्धांजलि | 2 Comments

गाँधी : एक पुनर्विचार

शहीद दिवस यानी गाँधीजी की शहादत की पुण्य तिथि पर मेरा मन कुछ ऐसे सवालों की ओर जाता है, जो आज की नई पीढ़ी के लिए प्रासंगिक होते हुए भी अबूझ किस्म की हैं। गाँधीजी को याद करते हुए कुछ … Continue reading

Posted in निजी डायरी, प्रेरक विचार, श्रद्धांजलि, समसामयिक, विश्लेषण | 1 Comment