Category Archives: व्यंग्य

भारतीय लोकतंत्र के शाही ख़ानदान का दामाद

हमारे लोकतंत्र के सबसे शक्तिशाली शाही ख़ानदान के शहजादों और शहजादियों के बीच एक ख़ास फ़र्क पर आपने भी गौर किया होगा। शहजादों को मोहब्बत होती है गोरी, विलायती मेमों से और शहजादियों को मोहब्बत होती है आम हिन्दुस्तानी मर्दों … Continue reading

Posted in समसामयिक, जन सरोकार, व्यंग्य | 8 Comments

अतिशीघ्र आवश्यकता है यमदूतों की

यमलोक रोजगार समाचार भूलोक के महान पुरातन राष्ट्र और धरती की भावी आर्थिक महाशक्ति भारतवर्ष की गौरवशाली राजधानी दिल्ली की सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था में प्रमुखता से शामिल ब्लू लाइन बसों की चपेट में आकर असमय अपना देह त्याग करने वाली … Continue reading

Posted in सार्वजनिक परिवहन, जन सरोकार, व्यंग्य | 8 Comments