Category Archives: पर्व-उत्सव

वाह रे, हम इंसानों की फितरत !

मैं किसी ‘मुर्दा शांति’ की बात नहीं कर रहा, जो बकौल पाश ‘सबसे खतरनाक’ होती है। मैं उस जीवंत शांति की बात कर रहा हूँ, जिसमें हम इंसानों की कोई दिलचस्पी नहीं है। ऐसी शांत-सहज-सरल जिंदगी, जिसमें कोई बड़ी हलचल … Continue reading

Posted in दर्शन, निजी डायरी, पर्व-उत्सव | 7 Comments

जब बुद्ध ढाई हजार साल बाद फिर लौटे

आप सभी को बुद्ध पूर्णिमा के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएँ! अमेरिकी सरकार की कैद के दौरान दिए गए धीमे जहर के घातक असर के कारण दिसम्बर, 1988 में ओशो कुछ सप्ताह तक गंभीर रूप से बीमार रहे और मरणासन्न हो चले थे। स्वस्थ होने पर उन्होंने बताया … Continue reading

Posted in पर्व-उत्सव, प्रेरक विचार, श्रद्धांजलि | 26 Comments