मतदाताओं से अपील

हे मतदाता,

तुम इस देश के मालिक हो। अपने भाग्य के और इस देश के भाग्य के विधाता तुम ही हो। चुनाव में मतदान करते समय तुम अपने हाथ से अपना भाग्य लिखते हो। कोई ब्रह्मा, कोई खुदा, कोई गॉड तुम्हारा भाग्य नहीं लिखता। वह तुम, केवल तुम ही हो, जो खुद अपना भाग्य लिखते हो। यह तुमको ही तय करना है कि तुम अपना भाग्य, अपना भविष्य कैसा चाहते हो।

यदि तुम आज सुखी नहीं हो तो इसलिए कि पिछली बार जब तुम्हें अपना भाग्य लिखने का मौका मिला था, तब तुमने अपना भाग्य गलत व्यक्ति के हाथों में सौंप दिया था। कोई बात नहीं, तुमको एक बार फिर मौका मिला है। इस बार अपने विवेक का पूरा इस्तेमाल करो और सही फैसला करो।

याद रखो कि तुम्हारे दु:खों को दूर करने आसमान से कोई फरिश्ता नहीं आएगा। तुमको अपना फरिश्ता खुद चुनना है। उस फरिश्ते को शक्ति भी तुम ही दोगे। जैसे भगवती दुर्गा को सभी देवताओं ने थोड़ी-थोड़ी शक्ति दी थी और उस सम्मिलित शक्ति के बल पर उसने भयंकर राक्षसों का समूल नाश कर दिया था, उसी तरह तुम भी अपनी थोड़ी-थोड़ी शक्ति अपने फरिश्ते को दो। वह तुमसे मिली शक्तियों के बल पर ही तुम्हारी समस्याओं को हल करेगा और तुम्हारे सारे दु:खों को दूर करेगा। वह तुम्हारे बीच का ही कोई व्यक्ति है, वह तुम्हारे जैसा ही है। सोचो, खोजो….वह तुम्हें अपने बीच ही दिखाई देगा।

जिस किसी को भी तुम अपना फरिश्ता चुनना चाहते हो, उसकी भलीभांति परीक्षा कर लो। पता लगाओ कि उसका अतीत कैसा रहा है, उसने अब तक अपना फ़र्ज कितनी ईमानदारी, कितनी जिम्मेदारी, कितनी समझदारी और कितनी बहादुरी से निभाया है। छानबीन करो कि उसका स्वार्थ क्या है, उसकी महत्वाकांक्षा क्या है, उसका इरादा क्या है?

किसी भी प्रकार के झाँसे या बहकावे में मत आओ। तुम्हारी जिंदगी का यह सबसे महत्वपूर्ण, सबसे जिम्मेदारी भरा निर्णय है। उसके दावों, उसके वादों पर मत जाओ। तुम यह देखो कि क्या वह तुम्हारे बीच का आदमी है या नहीं। क्या वह तुम्हारा प्रतिनिधि बनने लायक है या नहीं? क्या वह तुम्हारी समस्याओं, चिंताओं और उम्मीदों से वाकिफ़ है या नहीं? क्या वह तुम्हारे जैसे ही रहता है, तुम्हारे जैसे ही बोलता है, तुम्हारे जैसे ही सोचता है, तुम्हारे जैसे ही करता है या नहीं? क्या वह वास्तव में तुम्हारे भले के लिए सोचता है या सिर्फ अपने और अपने परिवार के भले के लिए सोच रहा है?

देखो कि उसकी कथनी और करनी में कोई फ़र्क तो नहीं। किसी ऐसे व्यक्ति को अपना प्रतिनिधि हरगिज नहीं चुनना जिसके चुनाव जीत जाने के बाद तुम उससे सहजता से मिल न सको, और अपनी बात ठीक से सुना न सको।

तुम अपना नौकर चुनो, मालिक नहीं। अपनी मालकियत अपने पास बनाए रखो।

तुम अपना नौकर चुनो, मालिक नहीं। अपनी मालकियत अपने पास बनाए रखो।

क्या तुमको ऐसा कोई उम्मीदवार चुनाव मैदान में दिखाई देता है? क्या कोई ऐसा व्यक्ति तुमसे वोट माँगने आया है? यदि हाँ तो चूकना मत, उसे अपना समर्थन जरूर देना। यदि ऐसा कोई व्यक्ति चुनाव में नहीं खड़ा है, तब भी वोट देने जरूर जाना। यह देख लेना कि जितने विकल्प तुम्हारे सामने हैं, उनमें से सबसे बेहतर कौन है? कौन तुम्हारी कसौटियों पर सबसे खरा उतर रहा है? उसकी पार्टी पर, उसके प्रचार पर मत जाना। यह भी मत सोचना कि चुनावी लहर उसके पक्ष में है या नहीं। उसके जीतने की संभावना है या नहीं। किसी सही उम्मीदवार को मिलने वाला हर वोट उसका हौसला बढ़ाएगा, भले ही वह चुनावी खेल में हार जाए। लेकिन किसी गलत उम्मीदवार को अपना समर्थन हरगिज मत देना। ऐसे किसी व्यक्ति को अपना वोट नहीं देना, जिसने चुनाव में किसी पार्टी का टिकट पाने के लिए लाखों-करोड़ों रुपये पार्टी फंड में निवेश किया है। ऐसा व्यक्ति चुनाव जीतने के बाद केवल भ्रष्टाचार ही करेगा और तुम्हारे हितों को बिल्कुल भूल जाएगा।

यदि तुम अठारह वर्ष या उससे अधिक उम्र के भारतीय नागरिक हो और यदि मतदाता सूची में तुम्हारा नाम दर्ज है तो नियत तारीख को मतदान करने जरूर जाना। यदि तुम ऐसा करने में चूकने की गलती करोगे तो ख्याल रखना कि तुम ऐसा करके अपने भविष्य की बेहतरी के दरवाजे खुद ही बंद कर लोगे। फिर भगवान से भी की गई तुम्हारी सारी प्रार्थना, सारी पुकार अनसुनी रह जाएगी।

About Srijan Shilpi

यह वेबसाइट दुनिया भर में बसे सृजनशील एवं तकनीकी रूप से कुशल भारतीयों के लिए परस्पर संवाद और सहयोग का एक मंच है जो भारत को विकसित राष्ट्रों की अग्रिम पंक्ति में लाना चाहते हैं।
This entry was posted in जन सरोकार. Bookmark the permalink.

9 Responses to मतदाताओं से अपील

  1. If you are looking to buy a desktop PC for your home it is likely
    you will want it to perform a variety of tasks from basic things like sending emails and word processing to more complex tasks like downloading music and streaming video from the internet.
    The rally and passing of Resolution 1010 pave the way for proposing
    House Bill 1286, which will double the incentives offered by the state to attract more film, TV,
    and media productions. Wine and beer is served on Saturdays
    and Sundays beginning when the Cinema opens its doors,
    which is generally at 11:30 a.

    my page: La Mort aux trousses gratuit
    La Mort aux trousses gratuit recently posted..La Mort aux trousses gratuit

  2. The true filmaholic hears a song from the soundtrack and
    knows exactly where it comes in during the film. The style of a well used movie theater can be carried out using the structural arranging as part of your room.

    With Luigi Lo Cascio, Catrinel Marlon, Luigi Maria Burruano.

    My blog – Nos pires voisins sous-titres français
    Nos pires voisins sous-titres français recently posted..Nos pires voisins sous-titres français

  3. I loved as much as you’ll receive carried out right here.
    The sketch is attractive, your authored material stylish.
    nonetheless, you command get bought an shakness over
    that you wish be delivering thee following. unwell unquestionably
    come more formerly again since exactly the same nearly very
    often inside caqse you shield this increase.

    Feeel free to surf tto myy website – Sexy Costumes
    Sexy Costumes recently posted..Sexy Costumes

  4. If you have a home theatre system or a pair
    of loudspeakers then you will want to get the best possible sound quality and maximum potential
    from your speaker system. with this special “Twiathlon” ticket, you are sure to be one of the first to see this epic
    saga continue unfolding. 9:30 pm Street Smarts: YAK Films’ Dance Then and Now – YAK
    Films is an international media production team whose work with urban dance began with the legendary Turf Feinz crew in Oakland, CA, innovators of the
    Turf dancing style.

    My page … La Planète des singes l’affrontement DVDRip
    La Planète des singes l’affrontement DVDRip recently posted..La Planète des singes l’affrontement DVDRip

  5. Have you ever considered creating an e-book or guest authoring on other sites?
    I have a blog centered on the same subjects you discuss and would love to have you share some stories/information.
    I know my readers would enjoy your work. If you are
    even remotely interested, feel free to shoot me an
    e-mail.
    Affordable transcribe recently posted..Affordable transcribe

  6. balkishan says:

    नींद से जगाने वाला लेख लिख है शिल्पी साहब आपने.
    लेकिन दिक्कत ये है कि सब “नौकर” नौकरी मिलने के बाद “मालिक” बन जाते है.
    और इनमे से कम बुरे को चुनना भी कोई हँसी खेल नहीं है.

  7. सत्य वचन भाई. हमारा मत पाया व्यक्ति अभी तक तो नहीं हारा :)

  8. मुझे लगता है कि संसद और विधानसभाओं से ज्यादा स्थानीय निकायों के चुनावों को अहमियत देनी चाहिए। वहीं से हम अपने प्रतिनिधियों को चुनने और उन पर अंकुश रखने की बुनियादी लोकतांत्रिक ट्रेनिंग ले सकते हैं। बाकी तो अभी हमारे यहां संसदीय लोकतंत्र का जो भी स्वरूप है, उसमें अच्छे व्यक्ति चुन भी लिए जाएं तो नक्काखाने में तूती की आवाज़ बनकर रह जाते हैं। ऊपर से व्यक्ति के सत्ता के पास पहुंचकर बदलने की पूरी गुंजाइश रहती है, अगर उस पर किसी विचारधारा या समूह का अंकुश न रहे। महात्मा गांधी तो बिरले ही होते हैं।

  9. ठीक लिखा है जी। हम भी इन बातों पर ध्यान देते हैं। यह जरूर है कि हमारा वोट पाया उम्मेदवार हारता ही रहा है। :-)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>

मेरे ब्लॉग की ताजा पोस्ट दिखाएं
देवनागरी में टंकण के लिए नीचे अ दबाएं. (To type in roman, press Ctrl+G)